विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने मतदाताओं को किया जागरूक, निकाली रैली

0
46

फरीदाबाद, 04 मई(AnuragSharma) विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल, तिगांव द्वारा 12 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए तिगांव क्षेत्र में मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित कर उन्हें अपने वोट के अधिकार का सदुपयोग करने के लिए जागरूक करने के लिए जागरूकता रैली निकाली गयी। रैली को स्कूल के चेयरमैन धर्मपाल यादव ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। स्कूल के छात्रों ने विभिन्न स्लोगन लिखे बैनरों के माध्यम से क्षेत्र के मतदाताओं को अधिक से अधिक मतदान करने का संदेश दिया। अधिक से अधिक मतदान को बढ़वा देने के उद्देश्य से इस तरह के कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर रैली शुरू होने से पहले स्कूल के चेयरमैन धर्मपाल यादव ने कहा कि हम एक लोकतांत्रिक देश के स्वतंत्र नागरिक है। लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत जितने अधिकार नागरिकों को मिलते हैं, उनमें सबसे बड़ा अधिकार है वोट देने का अधिकार। इस अधिकार को पाकर हम मतदाता कहलाता हैं। वही मतदाता जिसके पास यह ताकत है कि वो सरकार बना सकता है, सरकार गिरा सकता है और तो और स्वयं सरकार बन भी सकता हैं। विश्व के कई देशों में वोट देने का अधिकार अनिवार्य है। भारत जैसे सर्वाधिक युवा मतदाता वाले देश को इस पहल का अनुसरण करने के लिए आगे आना चाहिए। हमें यह शपथ लेनी चाहिए कि हम किसी भी प्रलोभन में नहीं फंसते हुए अपने वोट का प्रयोग स्वविवेक के आधार पर पूर्ण निष्पक्षता एवं निष्ठा के साथ करेंगे। स्कूल के डॉयरेक्टर दीपक यादव ने कहा कि भारत जैसा युवा देश जिसकी 65 प्रतिशत आबादी &5 वर्ष से कम है। उस देश के युवाओं की जिम्मेदारी बनती है कि वो अशिक्षित लोगों को वोट का महत्व बताकर उनको वोट देने के लिए बाध्य करे। लेकिन यह विडंबना है कि हमारे देश में वोट देने के दिन लोगों को जरूरी काम याद आने लग जाते हैं। कुछ लोग ऐसे भी है जो घर पर होने के बावजूद भी अपना वोट देने के लिए वोटिंग बूथ तक जाने में आलस करते हैं। इस तरह अजागरूक, उदासीन व आलसी मतदाताओं के भरोसे हमारे देश के चुनावों में कैसे सबकी भागीदारी सुनिश्चित हो सकेंगी? इन्हीं कमियों के कारण कुछ ऐसे लोग जो अयोग्य होते हैं वे गलत तरीकों से जीतकर योग्य लोगों पर राज करते हैं। इसलिए वोट की कीमत को समझ कर सही मतदान करना चाहिए। ये हमारी जिम्मेदारी है। इस रैली को सफल बनाने के लिए स्कूल के डॉयरेक्टर शम्मी यादव, प्रिंसिपल कुलविंदर कौर, अन्य अध्यापकों एवं स्टॉफ ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।

LEAVE A REPLY