हरियाणा के उद्योग एवं पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने औचक निरीक्षण किया।

0
108
फरीदाबाद, 01 दिसम्बर(RADHIKA BEHL) जिला रैडक्रास सोसायटी की ओर से बेघर व बेसहारा लोगों को सर्दी के मौसम में ठण्ड से सुरक्षित रात बिताने के उद्देश्य से संचालित किए जा रहे कुल चार रैन बसेरों में से तीन का आज हरियाणा के उद्योग एवं पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने औचक निरीक्षण किया। इस मौके पर उनके साथ भाजपा नेता एडवोकेट छत्रपाल सिंह, पार्षद नरेश नम्बरदार व पूर्व पार्षद धर्मपाल प्रमुख रूप से मौजूद थे।
श्री विपुल गोयल अपने इस दौरे की शुरूआत में सर्वप्रथम सैक्टर-14 स्थित रैडक्रास के ही नशा मुक्ति केन्द्र में संचालित रैन बसेरे को देखने पहुंचे। यहां पर उन्होंने फरीदाबाद के एसडीएम प्रताप सिंह तथा जिला रैडक्रास सोसायटी के सचिव बी.बी. कथूरिया को आवश्यक सुविधाओं में और सुधार करने के लिए कहा। इनमें रजाइयों व गद्दों की संख्या व आकार बढ़ाना, शीट लगाना, सफेदी करना तथा महिला व पुरूषों के लिए अलग-अलग शौचालय व स्नान घर की सुविधा उपलब्ध करवाना शामिल हैं। इस मौके पर रोटरी सीड फाउंडेशन के चेयरमैन जगदीश सहदेव ने इस प्रकार के आवश्यक खर्चों के लिए अपनी संस्था की ओर से रैडक्रास को 50 हजार रूपये की दान राशि देने की घोषणा की।
उद्योग मंत्री श्री गोयल ने इसके उपरान्त रैडक्रास भवन सैक्टर-12 में बेसमैंट में बनाए गए रैन बसेरे का दौरा किया। यहां पर उन्होंने रजाई व गद्दों, तकिया आदि की गुणवत्ता, साईज व संख्या में बढ़ोत्तरी करने के निर्देश दिए। उन्होंने ओल्ड फरीदाबाद रेलवे स्टेशन मोड़ हाइवे किनारे बनाए गए रैन बसेरे का निरीक्षण करके इसका आकार बढ़ाने बारे निर्देश दिए। श्री गोयल ने अधिकारियों से कहा कि इन रैन बसेरों में ठहरने वाले लोगों को बिस्तर, जलपान, चाय-बिस्कुट के अलावा उनके लिए टायलैट व बाथरूम की सुविधा भी बेहतर ढंग से दी जाये। श्री विपुल गोयल ने पुराना फरीदाबाद रेलवे स्टेशन के पूर्वी छोर वाले टिकट काउंटर के नजदीक महन्त मुकेश गिरी द्वारा संचालित किए जा रहे एक निजी रैन बसेरे का भी दौरा किया। उन्होंने यहां पर ठहरने वाले लोगों के लिए आवश्यक सुविधाओं का जायजा लिया और इसके संचालन में हर सम्भव आर्थिक मदद देने का आश्वासन दिया।
इस अवसर पर जिला रैडक्रास सोसायटी के कार्यक्रम अधिकारी गौरव रामकरण, सहायक पुरूषोत्तम सैनी व जितिन शर्मा सहित कई अन्य सम्बन्धित अधिकारी व कर्मचारी  भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY